US बोला- SKorea जंग की तैयारी कर रहा

0
135
views

नॉर्थ कोरिया ने 3 सितंबर को हाइड्रोजन बम का टेस्ट किया था। साउथ कोरिया ने कहा है कि ये बम 50 किलोटन का था।

न्यूयॉर्क/सिओल. कोरियाई पेनिनसुला में तनाव बढ़ रहा है। 3 सितंबर को नॉर्थ कोरिया ने हाइड्रोजन बम का टेस्ट किया था। नॉर्थ कोरिया द्वारा किया गया ये 6th एटमी टेस्ट था। इसके बाद साउथ कोरिया ने दोनों देशों की सीमा पर मिलिट्री ड्रिल शुरू कर दी है। साउथ कोरिया की तरफ से बयान दिया गया है कि नॉर्थ कोरिया ने समुद्र में कहीं भी उकसाने की कार्रवाई की तो उसे वहीं पर खाक कर दिया जाएगा। उधर, यूनाइटेड नेशंस (यूएन) में अमेरिका ने कहा कि नॉर्थ कोरिया जंग की तैयारी कर रहा है। उसपर और कड़े बैन लगाने चाहिए। सी ऑफ जापान में की ड्रिल…
– न्यूज एजेंसी के मुताबिक, साउथ कोरिया ने सी ऑफ जापान में मिलिट्री ड्रिल शुरू कर दी है। इसमें 2500 टन की फ्रीगेट, 1000 टन का पैट्रोलिंग शिप और मिसाइल से लैस शिप शामिल है।
– साउथ कोरिया के नेवी कमांडर कैप्टन चोई यंग-चान के मुताबिक, “अगर दुश्मन हमें पानी के ऊपर या अंदर कहीं भी उकसाने की कोशिश करेगा तो उसका तुरंत जवाब दिया जाएगा।”
– बता दें कि रविवार को नॉर्थ कोरिया के टेस्ट के बाद साउथ कोरिया ने भी कई बैलिस्टिक मिसाइल दागी थीं।
– नॉर्थ कोरिया बीते महीनों में इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल (ICBM) के टेस्ट भी कर चुका है। उसने दावा किया था कि इन मिसाइल की रेंज अमेरिका तक है।
क्या बोला अमेरिका?
– यूएन में अमेरिकी रिप्रेजेंटेटिव निक्की हेली ने कहा, “नॉर्थ कोरिया पर जितना संभव हो सके, उतने कड़े बैन लगाने चाहिए। हम इस क्राइसिस यूएन से भी आगे लेकर जाएंगे।”
– “नॉर्थ कोरिया मसले के हल के लिए डिप्लोमैटिक तरीके नाकाफी रहे हैं। हम सिक्युरिटी काउंसिल के मेंबर्स से इतना कहना चाहते हैं कि अब बहुत हो चुका। उसे और मौका नहीं दिया जाएगा।”
– हेली ने उन देशों को वॉर्निंग भी दी जो नॉर्थ कोरिया के साथ व्यापार जारी रखे हुए हैं।
6 न्यूक्लियर टेस्ट कर चुका है नॉर्थ कोरिया
– नॉर्थ कोरिया 2006, 2009, 2013 और 2016 में न्यूक्लियर बम की टेस्टिंग कर चुका है।
– 9 अक्टूबर, 2006- पहली बार जमीन के अंदर किया न्यूक्लियर टेस्ट। यूएस से एटमी वॉर का बताया था खतरा।
– 25 मई, 2009- दूसरी बार किया एटमी टेस्ट।
– 13 जून, 2009- नॉर्थ कोरिया ने कहा कि वो यूरेनियम एनरिचमेंट करेगा। इसे न्यूक्लियर वेपन्स और प्लूटोनियम बेस्ड रिएक्टर बनाने की संभावना माना गया।
– 11 मई, 2010- न्यूक्लियर फ्यूजन रिएक्टर बनाने का दावा किया। आशंका जताई गई कि नॉर्थ ज्यादा पावरफुल बम बनाएगा।
– 13 फरवरी, 2013- तीसरी बार न्यूक्लियर टेस्ट किया।
– 10 दिसंबर, 2015- तानाशाह उन का दावा- हासिल की हाइड्रोजन बम टेस्ट की कैपिबिलिटी।
– 6 जनवरी, 2016- हाइड्रोजन बम का टेस्ट किया।
– सितंबर, 2016- पांचवां एटमी टेस्ट किया।
– 3 सितंबर, 2017- छठा न्यूक्लियर टेस्ट किया।
– बता दें कि 2006 में पहला टेस्ट करने के बाद ही नॉर्थ कोरिया पर यूएन ने कड़े सेक्शन्स लगाए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here