नारायण मूर्ति से बेहतर संबंध बनाए रखने की कोशिश करेंगे : इंफोसिस के बॉस नंदन नीलेकणि

0
31
views

फोसिस के गैर कार्यकारी चेयरमैन नंदन नीलेकणि  ने कहा कि मेरी जिम्मेदारी कंपनी के संचालन और कामकाज पर निगाह रखना तथा नए मुख्य कार्यपालक अधिकारी की तलाश में मदद करना है.

नई दिल्ली: इंफोसिस के गैर कार्यकारी चेयरमैन नंदन नीलेकणि ने कहा कि मेरी जिम्मेदारी कंपनी के संचालन और कामकाज पर निगाह रखना तथा नए मुख्य कार्यपालक अधिकारी की तलाश में मदद करना है. मैं एनआर नारायण मूर्ति का प्रशंसक हूं, मेरा प्रयास रहेगा कि इंफोसिस, नारायण मूर्ति और अन्य संस्थापकों के बीच संबंध अच्छे रहें.


इंफोसिस की रणनीति, मार्गदर्शन और आय आदि का अनुमान लगाना अभी मेरे लिए जल्दीबाजी होगी, मैं कंपनी संचालन के सर्वोच्च आदर्शों के अनुपालन के लिए प्रतिबद्ध हूं. मैं अपनी रणनीति के बारे में और विवरण अक्तूबर में दूंगा, मैं कंपनी में पूरी तरह स्थायित्व लाना चाहता हूं और चाहता हूं कि इंफोसिस में किसी भी तरह का मनमुटाव नहीं हो. नीलेकणि ने सामूहिक कानूनी कार्यवाही के जोखिम का उल्लेख किया और कहा कि ये चीजें कंपनी के वकील देखेंगे, हमारा ध्यान कारोबार पर होगा.

निदेशक मंडल के वर्तमान स्वरूप पर विचार करेंगे, छह महीने में उपयुक्त स्वरूप हासिल करने की जरूरत है, नये सदस्यों के लिए चरणबद्ध तरीके से तलाश की जाएगी. कंपनी की पूंजी आवंटन करने की नीति और शेयरों की पुनर्खरीद में कोई बदलाव नहीं किया गया है.

गौरतलब है कि विशाल सिक्का के इस्तीफा देने के बाद नंदन नीलेकणि की इंफोसिस में वापसी हो गई थी. नीलेकणि मार्च, 2002 से अप्रैल, 2007 तक कंपनी के सीईओ रहे थे. इसके बाद वह भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) प्रमुख के पद पर रहे. नीलकेणी उन सात चर्चित संस्थापकों में से एक हैं जिन्होंने 80 के शुरुआती दशक में आईटी कंपनी इंफोसिस की स्थापना की थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here