वशीकरण, महिलाएं आदमी को वश में करने के लिए करती हैं ऐसी पूजा……

0
211
views
आए दिन ऐसी घटनाएं सुनने को मिलती हैं कि किसी गैर महिला के साथ पति का चक्कर होने से घर में आपसी झगड़े और कलह होते रहते हैं। कई बार तो मामला तलाक या मर्डर तक पहुंच जाता है। ऐसे में घरेलू कलह को खत्म करने और पति को वश में करने के लिए पत्नियां कई जतन करती हैं। वहीं  आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में बता रहा है जहां जाने से न सिर्फ पति-पत्नी में प्यार बढ़ता है बल्कि दोनों का ये रिश्ता जन्म-जन्मांतर के लिए प्रगाढ़ हो जाता है। जानिए कहां है ये मंदिर…
– दंतेवाड़ा जिला मुख्यालय से करीब 25 किमी दूर छिंदनार गांव से 4 किमी दूर घने जंगलों में मुकड़ी मावली देवी (वन राक्षसी) का मंदिर है।
– यहां प्रेमी-प्रेमिका अपने रिश्तों को प्रगाढ़ करने के लिए आते हैं। वहीं यहां ऐसी पत्नियां भी आती हैं जिनके पति किसी गैर महिला के प्रति आसक्त हो जाते हैं।
– अक्सर ऐसी पत्नियां चुपके से मंदिर के पास आती हैं ताकि पतियों को इस बात की खबर न हो।
– यहां वे पति की फोटो, बाल या इस्तेमाल किए गए कपड़े लेकर आती हैं और मंदिर के पास स्थित एक चट्टान के नीचे दबा देती हैं।
– मंदिर के पुजारी को धीरे से अपनी मनौती और इच्छा पूरा होने पर चढ़ावा के बारे में बताकर देवी का दूर से ही प्रार्थना करके चली जाती हैं।
– चूंकि इस मंदिर में महिलाओं का आना वर्जित है। देवी का साक्षात दर्शन महिलाओं के लिए घातक होता है।
यूं चुपके से आते हैं प्रेमी
– मंदिर के पुजारी सुखदेव बताते हैं कि ऐसे प्रेमी भी आते हैं जिन्हें किसी लड़की या महिला से एकतरफा प्रेम होता है।
– वे उसके बाल या फोटो लेकर आते हैं और उसका नाम लेते हुए पत्थर के नीचे उसे दबा देते हैं।
– ऐसी मान्यता है कि फिर वो इस शख्स के प्रति ऐसी आसक्त हो जाती है कि सारे बंधन तोड़कर उसके पास खींची चली आती है।
काम पूरा होते ही प्रसाद चढ़ाने आते हैं
– अक्सर यहां मां बलि लेती हैं। इन्हें खुश करने के लिए मन्नत में कई बार लोग बकरे या किसी और जानवर की बलि मानते हैं।
– काम बनते ही वे बलि चढ़ाने भी आते हैं।
घने जंगल के बीच स्थित है ये मंदिर
– ये मंदिर कब बना और ये मान्यता कब से है किसी को पता नहीं है।
– मंदिर घने जंगलों के बीच है और यहां पहले 3 फीट ऊंची देवी की प्रतिमा खुले आसमान के नींचे थी।
– लोगों के सहयोग से अब मंडपनुमा पक्की छत बनवा दी गई है। पुजारी का परिवार ही कई पीढ़ियों से मां की सेवा करता आ रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here