यूपी में शिक्षा मित्रों का आन्दोलन तेज……..

0
75
views

योगी आदित्थनाथ द्वारा शिक्षामित्रों कर समायोजन रद्द किया गया । सरकार विधिसंगत रास्ते तलाश रही है। वहीं योगी ने अखिलेश पर तंज कसते हुए कहा. पता नहीं कैसे सदन में अपने पिता पर प्रश्न उठा रहे हैं, जबकी मुलायम सिंह यादव अखिलेश जी के भाग्य विधाता हैं। आदित्यनाथ ने सपा विधायकों को विधान सभा पर हंगामा करने एवं शिष्टाचार का उलंधन करने का आरोप लगाया हैं। उच्च सदन में बैठे हुए लोगों का आचरण कैसा है, इसको देख कर बड़ा आश्चर्य हो रहा है। हम प्रार्थना करते हैं, भगवान उनको बुद्धि दे। बहुत जल्द ही उच्च सदन से भी इनको भागना पड़ेगा।
वहीं, शिक्षामित्रों पर योगी ने कहा.इनके समायोजन में ही गलती थी। पूर्व की सरकारों ने गलत किया। अपर मुख्य सचिव को आदेश किया गया है सरकार विधिसंगत रास्ते तलाश रही है।
मुझे लगता है कि जब सरकार विचार कर रही है तो सड़क पर हिंसा ठीक नहीं। सड़क पर तोड़फोड़ न करें, हिंसा न करें, किसी के बहकावे में ना आएं। विपक्ष उन्हें केवल वोट बैंक मानता है।
योगी आदित्यनाथ ने शिक्षामित्रों से हिंसा करने की प्रार्थना की हैं एवं कानून व्यवस्था बनाये रखने की मांग की हैं। सभी शिक्षामित्रों को स्कूल में जाने का आदेश दिया हैं। अगर लोकतांत्रिक तरीके से बात कही जाएगी तो बात सुनी जाएगी। अगर विपक्ष धमकी देगा तो सरकार धमकी देने से डरने वाली नहीं है। योगी आदित्यनाथ ने कहा हैं कि सभी शिक्षामित्रों कि बातें सुन रहा हूं। जिनका समायोजन नहीं हुआ था उनका मानदेय बढ़ाया गया है। लोकतंत्र में रास्ता निकलता है। हम रास्ता निकालेंगे। सरकार किसी के साथ अन्याय नहीं होने देंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here