‘पोस्‍टर बॉयज’ लाओ या ‘बरेली की बर्फी’, थिएटर में हंसाओगे तो हिट हो जाओगे…

0
77
views

इन हिट होती कॉमेडी फिल्‍मों में जो एक बात कॉमन है, वह है इनका अलग विषय और संदेश. जहां ‘पोस्‍टर बॉयज’ नसबंदी पर बात कर रही है तो पिछले हफ्ते आई फिल्‍म ‘शुभ मंगल सावधान’ ‘मेल परफॉर्मेंस एनजाइटी’ जैसे बेहद अलग विषय को लायी थी.

नई दिल्‍ली: अब इसे संयोग कहें या फिर कुछ और… लेकिन पिछले कुछ हफ्तों से सिनेमाघरों में सिर्फ कॉमेडी फिल्‍मों का ही बोलबाला है. अब चाहे खिलाड़ी कुमार की ‘टॉयलेट: एक प्रेम कथा’ हो या फिर राजकुमार राव के बेहद दिलचस्‍प अंदाज के लिए वाहवाही लूट रही फिल्‍म ‘बरेली की बर्फी हो, कॉमेडी फिल्‍में बॉक्‍स ऑफिस पर हफ्ते दर हफ्ते दर्शकों को खींच रही हैं और उनका मनोरंज कर रही हैं. इस शुक्रवार को भी बॉक्‍स ऑफिस पर तीन फिल्‍में रिलीज हुई है. अर्जुन रामपाल का गैगस्‍टर ड्रामा ‘डैडी’, मोहम्‍मद जीशान अयूब की बेहद संजीदा फिल्‍म ‘समीर’ और तीसरी है देओल ब्रदर्स और श्रेयस तलपड़े की ‘पोस्‍टर बॉयज’. लंबे समय बाद वापसी कर रहे सनी देओल और बॉबी देओल के साथ श्रेयस तलपड़े की तिकड़ी ने एक शानदार संदेश के साथ कॉमेडी फिल्‍म परोसने की कोशिश की है, जो काफी मजेदार है.

देओल ब्रदर्स इससे पहले अपने पापा धर्मेंद्र के साथ है ‘यमला पगला दीवाना’ में हंसाने की कोशिश कर चुके हैं और कुछ हद तक सफल भी हुए. लेकिन अब हंसी ठहाकों से भरपूर ‘पोस्‍टर बॉयज’ को क्रिटिक्‍स से अच्‍छे रिव्‍यूज मिल रहे हैं. हंसाने के साथ ही यह फिल्‍म ऐसा संदेश भी दे जाती है जिस पर हमेशा से हमारे समाज में खुलकर बात नहीं की जाती है, और वह है नसबंदी.

इन हिट होती कॉमेडी फिल्‍मों में जो एक बात कॉमन है, वह है इनका अलग विषय और संदेश. जहां ‘पोस्‍टर बॉयज’ नसबंदी पर बात कर रही है तो पिछले हफ्ते आई फिल्‍म ‘शुभ मंगल सावधान’ ‘मेल परफॉर्मेंस एनजाइटी‘ जैसे बेहद अलग विषय को लायी थी. अक्षय कुमार की फिल्‍म को शौचालय जैसे विषय पर कुछ कहती नजर आई. कॉमेडी और अच्‍छे विषय के साथ ही यह फिल्‍में देसी तड़का लिए हुए थीं.

कॉमेडी फिल्‍मों के हिट कनेक्‍शन की बात करें तो पिछले चार हफ्तों से सिनेमाघरों में कॉमेडी फिल्‍में आ रही हैं. अक्षय कुमार की ‘टॉयलेट एक प्रेम कथा’, कृति सेनन, आयुष्‍मान खुराना और राजकुमार राव की ‘बरेली की बर्फी’, आयुष्‍मान और भूमि पेडणेकर की ‘शुभ मंगल सावधान’ और इस हफ्ते रिलीज हुई ‘पोस्‍टर बॉयज’. इसका एक कारण यह भी है कि दर्शक सिनेमाघरों में हल्‍की-फुल्‍की फिल्‍में देखना हमेशा से पसंद करते हैं. अपनी जिंदगी में चल रही परेशान‍ियों, ऑफिस की टेंशन, ट्रैफिक की परेशान जैसी हर चीज को भुलाने के लिए 3 घंटे की फिल्‍म अच्‍छा काम करती है.

बॉलीवुड में हिट मसाला फिल्‍मों का फॉमुर्ला एक आइटम सॉन्‍ग, भरपूर एक्‍शन, थोड़ी कॉमेडी और बड़े स्‍टार जैसी चीजें मानी जाती थीं, लेकिन लगता है कॉमेडी के साथ देसीपन लिए अच्‍छा मैसेज वाली फिल्‍में हिट फिल्‍म का नया फॉमुर्ला बन सकती है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here