जावेद अख्तर के खिलाफ जयपुर में एडवोकेट प्रताप सिंह ने दर्ज किया परिवाद..

0
860
views

जावेद अख्तर के खिलाफ परिवाद दर्ज, एडवोकेट प्रताप सिंह ने दर्ज करवाया मामला, सिंधी कैम्प थाने में दर्ज हुआ परिवाद, राजपूत समाज पर की थी टिप्पणी।

रविवार को लखनऊ में एक न्यूज चैनल से बातचीत में जावेद अख्तर ने फिल पद्मावती विवाद को लेकर राजपूत राजाओं व राजपूत जाति के खिलाफ बयानबाजी की थी| जिससे राजपूत समाज के लोगों की भावनाओं को गहरा आघात लगा और जावेद अख्तर के खिलाफ देश में कई शहरों व गांवों तक में प्रदर्शन हुए और उसके पुतले जलाये गए| अब जावेद के इसी बयान को लेकर जयपुर के सिन्धी कैम्प थाने में एक परिवाद दर्ज किया गया है| परिवादी प्रतापसिंह शेखावत ने अपने परिवाद में लिखा है कि- अपनी जाति के बारे में जावेद द्वारा कहे अपमानजनक शब्दो को पढकर बहुत अपमानित व लज्जित महसूस किया। जो कि अप्रार्थी (जावेद अख्तर) के द्वारा सार्वजनिक रूप से धर्म विशेष की जाति पर मूल वंश के लिये कहे गये है। जिससे समाज मे विभिन्न जाति, धर्मों के बीच शत्रुता की भावना पैदा हो गई है।  व हिन्दु धर्म से सबंध रखने वाली राजपूत जाति जिसने राजस्थान ही नहीं अपितु संपूर्ण भारतवर्ष मे विदेशी ताकतो (अग्रेजो) से लडते हुए अपनी वीरता का परिचय दिया था अपना संपूर्ण न्योछावर करते हुए बलिदान हो गये।

उस राजपूत जाति के बारे मे सार्वजनिक रूप से कहना कि “राजपूत जाति कभी अंग्रेजों से लड़ी ही नहीं, अब सड़कों पर उतर रहे है, 200 वर्षों तक अंग्रेजों के दरबार मे पगडिया बांधकर खडे रहे, तब उनकी राजपूती कहाँ थी, उन्होंने अंग्रेजोंकी गुलामी की थी, यह लोग अपनी प्रतिष्ठा की बात ना करे, ‘दि आदि अनेक अपमानजनक शब्द जातियो, धर्मों के बीच वैमनस्य पैदा करने वाले कथन प्रिन्ट व इलेक्ट्रोनिक मीडिया में प्रसारण किये गये।

प्रार्थी प्रतापसिंह शेखावत के परिवाद को सिन्धी कैम्प, जयपुर थाने ने परिवाद नंबर- 184 पर दर्ज कर सब इन्स्पेक्टर चिरंजीलाल को जांच सौंपी दी|शौर्य गर्जना ने कल ही यह संभावना जता दी थी कि जयपुर में जावेद अख्तर को उसके गैर जिमेम्दाराना बयान पर क़ानूनी रूप से घेरने की तैयारी की जा रही है जो सच साबित हुई और आज उसके खिलाफ परिवाद दर्ज हो गया|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here