गर्भवस्था की इस उम्र में होते हैं कुछ नुकसान और फायदे….

1
36
views
Close-up of a pregnant woman during medical visit

32 साल के बाद मां बनने के फायदे

इस समय तक आप अपने कैरियर और जीवन साथी के साथ रिश्ते को लेकर काफी निश्चिंत हो चुकी होंगी। ये दोनों ही चीज आपके बढ़ते परिवार के लिए एक मजबूत आधार प्रदान करेंगे।

कुछ समय के लिए नौकरी छोड़ देना आपके लिए इस समय शायद आसान हो, जबकि 40 की उम्र के बाद ऐसा कर पाना मुश्किल होगा। 40 की उम्र के बाद बच्चा पैदा करने के लिए अपने स्थापित कैरियर के बीच में व्यवधान डालना आपके लिए मुश्किल होगा।
आप और आपके पति, माता-पिता बनने की अपनी सबसे रोमांचक यात्रा की शुरुआत से पहले एक साथ कई अन्य शानदार यात्राओं में जा चुके होंगे।
माँ बनने वाली महिलाओं में भी काफी शक्ति और लचीलापन होता है, ये विशेषताएं छोटे बच्चों के लालन-पालन में काफी काम आती हैं। निस्संदेह, हर इंसान अलग होता है, मगर पहले की तुलना में अब आप स्वयं को अच्छी तरह समझती होंगी। इस समय आपके अंदर अधिक लचीलापन होगा आपके एक बार में ही अपना परिवार पूरा करने की संभावना रहती है! आपको प्रजनन उपचार के बिना ही जुड़वां शिशु होने की उम्मीद अधिक रहती है। प्रजनन उपचार से एक से ज्यादा शिशुओं के जन्म की संभावना बढ़ जाती हैं
इन आंकड़ों की तुलना करने पर आप पाएंगी कि 30 साल के बाद जुड़वां शिशु होने की संभावना कितनी बढ़ जाती है:
आपकी उम्र के साथ-साथ आपकी माहवारी के दौरान जारी होने वाले फॉलिकल स्टिमुलेटिंग हॉर्मोन (एफ.एस.एच.) का भी स्तर बढ़ता जाता है। जब यह हॉर्मोन बढ़ता है, तो संभावना रहती है कि आप एक से अधिक डिंब जारी करेंगी, जिससे एक से अधिक शिशु के जन्म की उम्मीद बढ़ जाती है।

32 साल के बाद षिषु जन्म के नुकसान

अच्छी बात यह है कि 30 की उम्र के बाद भी इस बात की उम्मीद रहती है कि आप प्राकृतिक रूप से गर्भाधान कर सकेंगी और एक स्वस्थ शिशु को जन्म देंगी। हालांकि, समय काफी तेजी से निकल सकता है, खासकर 35 साल की उम्र के बाद, क्योंकि इसके बाद आपके डिंब की गुणवत्ता घटने लगती है। 32 से 34 साल की उम्र में आपके गर्भवती होने की संभावना 26 से 29 साल के मुकाबले थोड़ी ही कम होती है।

अगर आप 35 साल की उम्र के बाद गर्भवती होती हैं, तो दुर्भाग्यवश आपकी सफल गर्भावस्था की संभावना कम होती है। उम्र के साथ-साथ गर्भपात की दरें भी धीरे-धीरे, मगर निरंतर बढ़ती रहती हैं।अगर आप 35 साल की उम्र के बाद गर्भवती होती हैं, तो आपकी गर्भावस्था में जटिलताएं उत्पन्न होने की संभावना अधिक रहती है।
35 साल की उम्र में डाउंस सिंड्रोम और अन्य स्थितियां उत्पन्न होने की भी चिंता रहती है। 30 से 34 साल की उम्र में डाउंस सिंड्रोम के साथ शिशु के जन्म की संभावना 1200 में से एक होती है। जब आप 35 और 39 साल की उम्र के बीच होती हैं, तो यह संभावना बढ़कर 700 में से एक हो जाती है।
आपकी उम्र को मद्देनजर रखते हुए परिणाम निकाला जाएगा कि आपके शिशु में समस्या होने की कितनी संभावना है। यह स्पष्ट नहीं है कि अधिक उम्र में माँ बनने वाली महिलाओं में सीजेरियन आॅपरेशन की दर ज्यादा क्यों हैं। ऐसा शायद इसलिए हो सकता है क्योंकि डॉक्टर यह मानती हैं अधिक उम्र में माँ बनने वाली महिलाओं को अधिक देखभाल की जरुरत होती है, फिर चाहे उनकी गर्भावस्था सामान्य क्यों न चल रही हो।

अगर, आपको लगता है कि आपको गर्भाधान में मदद की जरुरत है, तो बेहतर है कि आप 30 से 34 साल की उम्र में ही उपचार शुरु करें। वीर्यारोपण (डोनर इनसेमिनेशन) और आई.वी.एफ. जैसे उपचार 30 से 35 साल की महिलाओं में अधिक सफल रहते हैं।

गर्भवती होने के लिए क्या करना चाहिए
उम्र को दरकिनार करते हुए, ऐसे कई उपाय है, जिन्हें अपनाकर आप स्वयं को सामान्य गर्भावस्था और स्वस्थ शिशु पाने का सर्वोत्तम अवसर दे सकती हैं। गर्भावस्था के लिए खुद को तैयार करने से जुड़े हमारे सुझाव पढ़ें।

अगर, आपकी उम्र 35 साल या इससे कम है और आप एक साल से नियमित संभोग के बावजूद गर्भवती नहीं हो रही हैं, तो समय है कि आप डॉक्टर से मिलें। डॉक्टर कुछ टेस्ट करवाकर देखेंगी कि गर्भाधान न कर पाने कि क्या कोई चिकित्सकीय वजह है।

यदि आपकी उम्र 36 साल या इससे अधिक है, तो आपको एक साल तक इंतजार करने की जरुरत नहीं हैं। इस मामले में आप जितना अधिक जल्दी डॉक्टर से मिलेंगी, उतना बेहतर है।

 

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here