क्या कर्नाटक विधानसभा में EVM बन सकता हैं फिर एक जोरदार मुददा..

0
33
views

12 मई को  कर्नाटक विधानसभा चुनावों को 224 सीटों में से 222 सीटों पर मतदान हुआ था. इस बार कर्नाटक विधानसभा चुनावों में कुल 80 हजार इलेक्‍ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) का इस्‍तेमाल किया गया था. इस सभी में वोटर वेरीफाएबल पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपैट) का भी उपयोग किया गया. पिछले कुछ चुनावों के नतीजों के बाद ईवीएम की प्रामाणिकता को लेकर सवाल उठाए गए थे. इस बार भी ऐसी ही आशंका जताई जा रही है. आपको बता दें कि भारत दुनिया के उन चुनिंदा देशों में शुमार है, जहां ईवीएम का उपयोग होता है. 1982 में देश में पहली बार इस्‍तेमाल हुई ईवीएम की पूरी कहानी यहां पढ़ें. पहली बार केरल में हुआ ईवीएम का इस्‍तेमाल


केरल के परूर उपचुनाव में सफलता के बाद इसे 1998 में मध्‍य प्रदेश, राजस्‍थान और दिल्‍ली की 16 विधानसभा सीटों के लिए हुए मतदान में किया गया. इसके बाद इसे पूरे देश में इस्‍तेमाल करने को लेकर योजना बनाई गई. 2004 में हुए लोकसभा चुनावों में पहली बार पूरे देश में ईवीएम का इस्‍तेमाल किया गया.
ईवीएम की कंट्रोल यूनिट में पूरा डाटा और ईवीएम की कार्यप्रणाली को नियंत्रित करने वाला प्रोग्राम होता है. यह खास प्रोग्राम एक माइक्रोचिप में होता है. इसमें न तो छेड़छाड़ की जा सकती है और न ही इसपर दूसरा डाटा ओवरराइट किया जा सकता है. मतदान होने के बाद इसे बंद करने वाला क्‍लोज बटन दबा दिया जाता है. इसके बाद ईवीएम बिलकुल निष्क्रिय हो जाती है. इसके बाद इसमें कोई भी नया डाटा नहीं डाला जा सकता. बूथ पर मौजूद रजिस्‍टर में दर्ज मतदाताओं के आंकड़ों को ईवीएम में कैद वोटों के आंकड़ों से मिलाया जाता है. देश में जो ईवीएम इस्‍तेमाल होती है उसे किसी भी बाहरी डिवाइस से नहीं जोड़ा जाता. यह स्‍वत: काम करती है.

देश में चुनावों में पारदर्शिता बरतने के लिए भारतीय निर्वाचन आयोग ने 2010 में वोटर वेरीफाएबल पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपैट) करे चुनावों में इस्‍तेमाल करने पर विचार किया. ईवीएम से जुड़ी इस मशीन में वोटिंग करने के बाद एक पर्ची निकलती है. उसमें मतदाता यह जान सकता है कि उसने जिस पार्टी को वोट दिया है, वोट हकीकत में उसी पार्टी को गया है कि नहीं. उस पर्ची पर उम्‍मीदवार और पार्टी की निशान छपा होता है. वीवीपैट को पहली बार 2103 में नगालैंड के उपचुनावों में हुआ था. 2014 में निर्वाचन आयोग ने 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव में पूरे देश में वीवीपैट को इस्‍तेमाल करने का प्रस्‍ताव रखा है. निर्वाचन आयोग का कहना है कि आयोग पूरे देश में वीवीपैट को इस्‍तेमाल करने के लिए तैयार है.

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here