उत्तराखण्ड के हरिद्वार में पदमावती का हिन्दू समाज द्वारा जमकर विरोध किया एवं सिनेमा हाॅल मालिको से बात की..

0
145
views

जब पद्मावती का ट्रेलर जारी किया गया तब सुदर्शन ने इस का विरोध किया था. क्योंकि इससे युवाओं में गलत संस्कार जा सकते है जो कि एक परिवार और उन सभी परिवारों से बने देश के लिए बिलकुल भी सही नहीं है.हिन्दुस्थान को जिसने लूटा. जिसने कई हिन्दुओ की हत्याएं की. उस हत्यारे अल्लाउदीन खिलजी को बॉलीवुड जगत एक नायक बनाने की कोशिश कर रहा है. और खिलजी को इस तरह से दिखाया जा रहा है जिससे देश के नौजवान खलनायक खिलजी को नायक के दर्जे से देख प्रभावित हो रहे है
जिसके बाद सुदर्शन की खबर का व्यापक असर हुआ है और विरोध देवभूमि उत्तराखंड तक पहुँच चुका है और फिल्म को न दिखाए जाने की मांग की गई और कई जगहों पर पोस्टर्स में आग तक लगा दी गयी है. ये विरोध उत्तराखंड के पेंटागन मॉल के पास हुआ. जहाँ पद्मावती फिल्म के विरोध में युवाओं ने प्रदर्शन किया. फिल्म के लिएआक्रोशित युवाओं द्वारा सीएम और जिलाधिकारी को ज्ञापन प्रेषित कर फिल्म को दिखाए जाने पर रोक लगाने को कहा गया. युवाओं कहना था चंद पैसे कमाने के लिए फिल्म में ऐतिहासिक तथ्यों को तोड़ मरोड़कर पेश किया गया है.

जो की सरासर गलत हैं और इस तरह की फिल्मो द्वारा समाज में दूरिया तो बढ़ेगी ही साथ यह हमारे समाज के लिए गलत है यह बिलकुल बर्दाश नहीं करेंगे. युवाओं ने इन सब के चलते नारेबाजी करते हुए बहादराबाद स्थित रघुनाथ मॉल में गए और ज्ञापन की एक कॉपी मॉल के मैनेजर को दी तथा वहां पर लगे सारे विज्ञापन बंद करवाएं. युवाओं ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर इस तरह की फिल्मे दिखाई जाएँगी जो की हमारे समाज भावनाओं को ठेस पहुंचा सकती है तो इन सबके जिम्मेदार सिनेमाघरों के संचालक होंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here