इन 8 प्राचीन सरल उपाय, रहेंगे स्वस्थ और निरोग…

0
220
views

हमारे प्राचीन ग्रंथों में कई ऐसे सरल उपाय दिए गए हैं, जो रोगों से छुटकारा पाने के लिए लाभदायी हैं। वर्तमान भागदौड़भरे युग में किसी भी रोग से ग्रस्त होने पर बड़ी समस्या का सामना करना पड़ता है। ज्ञात हो कि कुछ दवाएं रोग निवारण के पश्चात शरीर पर गलत प्रभाव छोड़ती हैं और कुछ दवाएं शीघ्र लाभ नहीं पहुंचातीं। ऐसे में रोगों से छुटकारा पाने के निम्न उपाय कई हद तक लाभकारी साबित हो सकते हैं।

आइए जानें वे खास उपाय, जो आपके लिए बहुउपयोगी हैं…
 जिस अकीक पत्थर पर सूर्य अंकित हो, उसे मंगलवार के दिन गले में धारण करें, सफेद दाग नष्ट हो जाएंगे।
प्रत्येक मंगलवार और शनिवार को सायंकाल हनुमानजी के चरणों का सिंदूर पागल व्यक्ति के मस्तक पर लगाएं, उसका पागलपन दूर हो जाएगा।
 गुरुवार को भेड़ की बाल की अंगूठी बनाकर उसी दिन मध्यमा उंगली में पहनने से दंत पीड़ा दूर होती है।
 शुक्रवार या मंगलवार को लोहबान के पौधे की जड़ सूत के धागे में पिरोकर गले में धारण करने से सभी प्रकार की खांसी दूर हो जाती है।
शनिवार के दिन आधा तोला काले धतूरे की जड़ को कमर में बांधने से बवासीर रोग में लाभ होता है।
शनिवार के दिन काले घोड़े की नाल लाकर उसका छल्ला बनाकर मध्यमा उंगली में पहनने से पथरी रोग ठीक हो जाता है।
शनिवार के दिन सायंकाल भिंडी की जड़ लाकर उसे उसी समय कमर में धारण करें, आंत नहीं उतरेगी।
ज्वर से ग्रस्त व्यक्ति के मस्तक पर केकड़े के बिल की मिट्टी लगाने से वह धीरे-धीरे ज्वरमुक्त हो जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here