अजब है ये मन्दिर जहाॅ बन्दरें के पैर छूकर लेते हैं आर्शीवाद..

0
123
views

राजस्थान  में भक्तों की आस्था के प्रतीक  एेसे कई मंदिर हैं उन में से एक मंदिर अजमेर के बंजरंगगढ़ का हनुमान मंदिर है। अजमेर शहर में खूबसूरत आनासागर झील के नजदीक पहाड़ी पर हनुमान जी का ये मंदिर बहुत खास है, जहां भक्त नैसर्गिक वातावरण में भक्ति और आध्यात्मिक शांति के लिए पहुंचते हैं। इसे बजरंगगढ़ हनुमान मंदिर के नाम से जाना जाता है। यहां न सिर्फ हनुमान जी का आशीर्वाद मिलता है, बल्कि मंदिर परिसर से आनासागर और दौलतबाग के साथ ही अजमेर शहर के विहंगम दृश्य को भी देखा जा सकता है।

भक्तों द्वारा अर्पित किया गया प्रसाद सीधे ही हनुमान जी के मुंह तक पहुंचता है। साथ ही यहां का विशेष आकर्षण रामू नाम का बंदर भी है। यह बंदर पिछले कई वर्षों से हनुमान के सच्चे भक्त के रूप में उनकी सेवा कर रहा है। यह रोजाना पैर धुलवाता है, तिलक निकलवाता है, पूजा करता है और भक्तों को आशीर्वाद भी देता है।

रामू मंदिर के चौकीदार औंकार सिंह के बेहद करीब है। औंकार सिंह के अनुसार रामू सात वर्ष पूर्व पहले यहां किसी मदारी से छूट गया था। जब रामू यहां आया तो वो पहुत बीमार था, औंकार ने रामू की बहुत सेवा की। समय के साथ साथ रामू और औंकार का रिश्ता गहरा होता चला गया।

मंदिर के पुजारी बताते हैं कि रामू मंदिर के लिए बहुत ही शुभ है, वह साक्षात बाला जी के रूप में मंदिर की रक्षा करता है। मंदिर परिसर में काफी खुला स्थान है और यहां नारियल चढ़ाने का स्थान तथा कबूतरों को दाना डालने का स्थान बनवाया गया है। मंदिर तक जाने के लिए पहाड़ी पर सीढ़ियां बनी हैं। यहां पर लाल पत्थर लगे हैं, जिन पर बैठने की मनाही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here